संत कबीर के प्रसिद्द दोहे और उनके अर्थ

Share:
                    हिन्दू कहें मोहि राम पियारा, तुर्क कहें रहमाना, 
आपस में दोउ लड़ी-लड़ी  मुए, मरम न कोउ जाना।

भावार्थ: कबीर कहते हैं कि हिन्दू राम के भक्त हैं और तुर्क (मुस्लिम) को रहमान प्यारा है। इसी बात पर दोनों लड़-लड़ कर मौत के मुंह में जा पहुंचे, तब भी दोनों में से कोई सच को न जान पाया।