22 Oct 2018

संत कबीर के प्रसिद्द दोहे और उनके अर्थ

0 comments
                     जब गुण को गाहक मिले, तब गुण लाख बिकाई। 
जब गुण को गाहक नहीं, तब कौड़ी बदले जाई।

भावार्थ: कबीर कहते हैं कि जब गुण को परखने वाला गाहक मिल जाता है तो गुण की कीमत होती है। पर जब ऐसा गाहक नहीं मिलता, तब गुण कौड़ी के भाव चला जाता है।