19 Nov 2018

जॉर्ज ई बर्गमैन | आर्थर सी क्लार्क | मार्टिन लूथर किंग, जूनियर | चार्ल्स लिंडबर्ग | जोश बिलिंग्स के विचार

0 comments

“व्यवहारकुशलता उस कला का नाम है जिसमें आप मेहमानों को घर जैसा आराम दें और मन ही मन मनाते भी जाएं कि वे अपनी तशरीफ उठा ले जाएं।”
~जॉर्ज ई बर्गमैन
 

“संभव की सीमाओं को जानने का एक ही तरीका है कि उनसे थोड़ा आगे असंभव के दायरे में निकल जाइए।”
~आर्थर सी क्लार्क
 

“हमें परिमित निराशा को स्वीकार करना चाहिए, लेकिन अपरिमित आशा को कभी नहीं खोना चाहिए।”
~मार्टिन लूथर किंग, जूनियर 
 

“है न यह अजीब बात कि हम उन चीज़ों के बारे में सबसे कम बात करते हैं जिनके बारे में हम सबसे अधिक सोचते हैं?”
~चार्ल्स लिंडबर्ग
 

“डाक टिकट की तरह बनिए, मंजिल पर जब तक न पहुंच जाएं उसी चीज़ पर जमे रहिए।”
~जोश बिलिंग्स