24 Nov 2018

टेगोर | डगलस होफ़्स्टेटर | अल बेट्ट के विचार हिंदी में

0 comments

“हर शिशु इस संदेश के साथ आता है कि ईश्वर अभी इंसान से थका नहीं है।”
~टेगोर
 

“ईश्वर बोझ देता है, और कंधे भी।”
~अज्ञात
 

“इस राष्ट्र को ऐसे नेताओं की आवश्यकता है जो जानते हैं कि इस देश की क्या आवश्यकताएं हैं।”
~अज्ञात
 

“वैयक्तिक स्तर पर उदासीनता सामूहिक स्तर पर उन्माद में बदल जाती है।”
~डगलस होफ़्स्टेटर
 

“आप विवाह के समारोह का तो अभ्यास कर सकते है, लेकिन विवाह का नहीं।”
~अल बेट्ट