कार्ल सैंडबर्ग | जॉर्ज बर्नार्ड शॉ | एम. रनबैक | महात्मा गांधी | ए. शोपनहॉवर के विचार हिंदी में

Share:
☞जीवन,रोना,कार्ल सैंडबर्ग 
“जीवन एक प्याज की तरह है, जिसे परत दर परत छीलने पर कभी कभी रोना आ जाता है।”
~कार्ल सैंडबर्ग

सुधारक,कार्य,जॉर्ज बर्नार्ड शॉ 
“विश्व ने जो सर्वोत्तम सुधारक कभी देखे हैं वे, वे हैं जिन्होंने यह कार्य अपने आप से प्रारंभ किया।”
~जॉर्ज बर्नार्ड शॉ
☞प्रसन्नता,यात्रा,एम. रनबैक 
“प्रसन्नता ऐसा स्टेशन नहीं है जहां आप पहुंचते हैं, यह तो यात्रा की एक शैली है।”
~एम. रनबैक

☞शांति,परिस्थिति,महात्मा गांधी 
“हर व्यक्ति को शांति अपने अंदर से ही ढूंढनी होती है और यह शांति वास्तविक हो, इसके लिये यह आवश्यक है कि इस पर बाहरी परिस्थितियों का प्रभाव न हो।”
~महात्मा गांधी

भूल,स्वास्थ्य,ए. शोपनहॉवर
“सबसे बड़ी भूल, जो कोई मनुष्य कर सकता है, वह है, किसी भी प्रकार के फ़ायदे या हित साधन के लिये स्वास्थ्य का बलिदान करना। ”
~ए. शोपनहॉवर