बुद्ध | थोमस एडिसन | सेनेका के विचार हिंदी में

Share:

“यह व्यक्ति की स्वयं सोच ही होती है जो उस बुराईयों की तरफ ले जाती हैं न कि उसके दुश्मन।”
~बुद्ध
 

“वह व्यक्ति समर्थ है जो यह मानता है कि वह समर्थ है।”
~बुद्ध
 

“निडरता से डर को भी डर लगता है।”
~अज्ञात
 

“जीवन में अनेक विफलताएं केवल इसलिए होती हैं क्योंकि लोगों को यह आभास नहीं होता है कि जब उन्होंने प्रयास बन्द कर दिए तो उस समय वह सफलता के कितने करीब थे।”
~थोमस एडिसन
 

“ऐसा नहीं है कि कार्य कठिन हैं इसलिए हमें हिम्मत नहीं करनी चाहिए, ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हम हिम्मत नहीं करते हैं इसलिए कार्य कठिन हो जाते हैं।”
~सेनेका