27 Nov 2018

एडिथ व्होर्टन | सीज़र बेकारिया | वाल्ट व्हिट्मेन | कन्फ़्यूशियस के विचार हिंदी में

0 comments

“रोशनी फैलाने के दो तरीके हैं: या तो दीपक बन जाएं या उसे प्रतिबिम्बित करने वाला दर्पण।”
~एडिथ व्होर्टन
 

“अपराध को होने ही न देना उसके लिए सज़ा देने से बेहतर है।”
~सीज़र बेकारिया
 

“महान कवि हों, इसके लिए ज़रूरी है कि अच्छी श्रोता भी हों।”
~वाल्ट व्हिट्मेन
 

“जो क्षमा नहीं कर सकते वे जिस पुल से उन्हें पार जाना होता है उसी को नष्ट करते है।”
~कन्फ़्यूशियस
 

“आत्मविश्वास हमेशा सही होने से नहीं आता, बल्कि गलत होने का डर न होने से आता है।”
~अज्ञात