21 Nov 2018

एबिगैल वैन ब्यूरेन | राल्फ़ नेडर | हारवी कॉक्स | पोप जॉन त्रयोदश | डॉली पार्टन के विचार हिंदी में

0 comments

“आप आराम की ज़िंदगी चाहते हैं तो आपको कुछ परेशानी तो उठानी ही होगी।”
~एबिगैल वैन ब्यूरेन
 

“नागरिकता के दैनिक व्यवहार के बिना लोकतंत्र का दैनिक निर्वाह हो ही नहीं सकता।”
~राल्फ़ नेडर
 

“हम जिस चीज़ की तलाश कहीं और कर रहे होते हैं वह हो सकता है कि हमारे पास ही हो।”
~हारवी कॉक्स
 

“अपना हाथ आगे बढ़ाने से कभी मत हिचकिए। दूसरे का आगे बढ़ा हाथ थामने से भी कभी मत हिचकिए।”
~पोप जॉन त्रयोदश
 

“मेरा दृष्टिकोण तो यह है कि आप इंद्रधनुष चाहते हैं तो आपको वर्षा सहन करनी ही होगी।”
~डॉली पार्टन