सुकरात | बेंजामिन फ्रेंकलिन | चाणक्य के विचार हिंदी में

Share:

“निकम्मे लोग सिर्फ खाने पीने के लिए जीते हैं, लेकिन सार्थक जीवन वाले जीवित रहने के लिए ही खाते और पीते हैं।”
~सुकरात
 

“क्रोध कभी भी बिना कारण नहीं होता, लेकिन कदाचित ही यह कारण सार्थक होता है। ”
~बेंजामिन फ्रेंकलिन
 

“ज्ञान में पूंजी लगाने से सर्वाधिक ब्याज मिलता है। ”
~बेंजामिन फ्रेंकलिन
 

“हमें न अतीत पर कुढ़ना चाहिए और न ही हमें भविष्य के बारे में चिंतित होना चाहिए; विवेकी व्यक्ति केवल वर्तमान क्षण में ही जीते हैं।”
~चाणक्य
 

“व्यक्ति कर्मों से महान बनता है, जन्म से नहीं।”
~चाणक्य