24 Nov 2018

प्लेटो | चार्ल्स आर स्वीण्डोल्ल | स्वामी विवेकानंद | जॉन मैक्सवेल के विचार हिंदी में

0 comments

“माता पिता अपने बच्चों को उत्तरदान में धन दौलत नहीं, बल्कि श्रद्धा की भावना दें।”
~प्लेटो
 

“हम हमारे जीवन के हर दिन अपने बच्चों की यादों के पिटारे में धरोहर सौंपते हैं।”
~चार्ल्स आर स्वीण्डोल्ल
 

“हम ईश्वर को कहां पा सकते हैं अगर हम उसे अपने आप में और अन्य जीवों में नहीं देखते?”
~स्वामी विवेकानंद
 

“आपको अपने भीतर से ही विकास करना होता है। कोई आपको सीखा नहीं सकता, कोई आपको आध्यात्मिक नहीं बना सकता। आपको सिखाने वाला और कोई नहीं, सिर्फ आपकी आत्मा ही है।”
~स्वामी विवेकानंद
 

“एक महान नेता में अपनी दूरदर्शिता को पूरा करने की हिम्मत उत्कंठा से आती है, दर्जे से नहीं।”
~जॉन मैक्सवेल