26 Nov 2018

अल्बर्ट कामू | कंफ्यूशियस | फ्रेंक काफ्का के विचार हिंदी में

0 comments

“ईमानदारी किसी कायदे कानून की मोहताज़ नहीं होती।”
~अल्बर्ट कामू
 

“हमारी महानतम विशालता कभी भी न गिरने में नहीं अपितु गिरने पर हर बार फिर उठ जाने में निहित है।”
~कंफ्यूशियस
 

“खाली बैठना दुनिया में सबसे थकाने वाला काम है क्योंकि सर्वस्व त्याग देना और आराम करना असंभव है।”
~अज्ञात
 

“कोई भी व्यक्ति जो सुंदरता को देखने की योग्यता को बनाए रखता है, वह कभी भी वृद्ध नहीं होता।”
~फ्रेंक काफ्का
 

“ऐसा छात्र जो प्रश्न पूछता है, वह पांच मिनट के लिए मूर्ख रहता है, लेकिन जो पूछता ही नहीं है वह जिंदगी भर मूर्ख ही रहता है।”
~चीनी कहावत