20 Nov 2018

सेसिल बी. डेमिल्ले | एलेयानोर | स्वामी श्री सुदर्शनाचार्य जी | गीता के विचार हिंदी में

0 comments

“एक सफल व्यक्ति ऐसा व्यक्ति होता है जो अपने लक्ष्य पर निरन्तर नजर बनाए रखता है और इसके लिए अडिग रहता है। इसे समर्पण कहा जाता है।”
~सेसिल बी. डेमिल्ले
 

“जो व्यक्ति धन गंवाता है, बहुत कुछ खो बैठता है; जो व्यक्ति मित्र को खो बैठता है, वह उससे भी कहीं अधिक खोता है, लेकिन जो अपने विश्वास को खो बैठता है, वह व्यक्ति अपना सर्वस्व खो देता है।”
~एलेयानोर
 

“आप मृत्यु के उपरांत अपने साथ अपने अच्छे-बुरे कर्मों की पूंजी साथ ले जाएंगे। इसके अलावा आप कुछ साथ नहीं ले जा सकते।याद रखें “कुछ नहीं”।”
~स्वामी श्री सुदर्शनाचार्य जी
 

“हम अपने कार्यों के परिणाम का निर्णय करने वाले कौन हैं? यह तो भगवान का कार्यक्षेत्र है। हम तो एकमात्र कर्म करने के लिए उत्तरदायी हैं।”
~गीता
 

“अपने सकारात्मक विचारों को ईमानदारी और बिना थके हुए कार्यों में लगाए और आपको सफलता के लिए प्रयास नहीं करना पड़ेगा, अपितु अपरिमित सफलता आपके कदमों में होंगी।”
~अज्ञात